Rural e Service क्या है और Rural e Service पोर्टल शुरू करने के पीछे सरकार का उद्देश्य क्या है।

दोस्तों Rural e Service एक वेबसाइट और पोर्टल शुरू किया गया है जिसका मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र और एग्रीकल्चर क्षेत्र की सही से डाटा कलेक्ट करना है और उस पर काम करना है।  इस पोर्टल के अनुसार e-Rural Services इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी की सहयता से ग्रामीण और कृषि क्षेत्र के विकास के आंकड़ों को सही तरिके से एकत्रित ही नहीं करेगा बल्कि इस क्षेत्र के विकास पर भी निगरानी रखेगा।

Rural e Service शुरू करने का उद्देश्य

दोस्तों भारत देश एक कृषि प्रधान देश है लेकिन आजादी के 75 साल पूरे होने का बाद भी हमारे देश के कृषि जैसे महत्वपूर्ण व्यवसाय के सही आंकड़े नहीं हैं।  अभी तक न तो कोई संस्था और न ही कोई पोर्टल इन आंकड़ों को सही और प्रमाणिक तौर पर पेश कर पाया है।  अभी तक भी यह पता नहीं है की ग्रामीण परिवेश में कितने लोग कृषि व्यवसाय करते हैं और कितने किसान हर साल गरीबी के कारण आत्महत्या करते हैं। 

e Rural Service
Rural e Service

Rural e Services पोर्टल शुरू करने के पीछे साफ़ मकशद यही है की ग्रामीण परिवेश और कृषि से जुड़े आंकड़ों को सही से इकठा करना और उसे पब्लिक डोमेन में पेश करना।  इस पोर्टल की सहयता से ग्रामीण और कृषि क्षेत्रों के आंकड़ों की गणना सही तौर पर एकत्रित किया जायेगा और जो आंकड़े इस पोर्टल के माध्यम से आगे आएंगे उनकी आंकड़ों पर नई ग्रामीण और कृषि निति बनाई जाएगी।

Rural e Service के कार्य इस प्रकार रहेंगे – पढ़ें पूरी जानकारी

  1. इस योजना के तहत  स्थानीय प्रशासन के सहयोग से ग्रामीण विकास और कृषि से सम्बंधित सही आंकड़ों को एकत्रित करने का एक स्ट्रक्चर बनाया जायेगा।
  2. ग्रामीण स्टेटिस्टिक के आधार पर आंकड़ों को इकठा करने का निर्माण किया जायेगा।
  3. इस योजना के तहत जो आंकड़े इकठे किये जायेंगे उनके आधार पर ग्रामीण क्षेत्र के विकास की निगरानी की जाएगी।
  4. इस योजना के तहत सूक्ष्म लेवल पर आंकड़े इकठा करके ग्रामीण विकास के लिए प्रसासन को सशक्त बनाया जायेगा।
  5. आंकड़ों के आधार पर दी जाने वाली सब्सिडी और अन्य सहयता राशि को सुदृढ़ बनाया जायेगा।
  6. इस पोर्टल के तहत ग्रामीण क्षेत्रो में लागू की जाने वाली नीतियों पर निगरानी राखी जाएगी।
  7. ग्रामीण क्षेत्र में खाद्य सुरक्षा और जीवन स्तर को बेहतर बनाया जायेगा।
e Rural Service
e Rural Service

Sonu Sood is Now Brand Ambassador of Desh ke Mentor Programm 

ग्रामीण क्षेत्र में e-Rural Services से होने वाले फायदे

दोस्तों जैसे की देश की प्रगति के लिए ग्रामीण क्षेत्र की प्रगति का होना बहुत जरूरी है।  भारत के 80 लोग ग्रामीण क्षेत्र में रहते हैं और कृषि पर निर्भर हैं।   ग्रामीण क्षेत्र को भारत की रीड की हड्डी कहा गया है।  और अगर रीड की हड्डी सही नहीं होगी तो शरीर कभी स्वस्थ नहीं हो सकेगा।  e-Rural Services योजना को ग्रामीण क्षेत्र और कृषि क्षेत्र के लिए ही डेवेलोप किया गया है।  इस पोर्टल से ग्रामीण क्षेत्र में कई लाभ होने वाले हैं।

Rural e Services से ग्रामीण क्षेत्र के सही आंकड़े मालूम होंगे।

Rural e Services से कृषि क्षेत्र के सही आंकड़े  मालूम होंगे।

Rural e Services योजना के तहत एक Agricultural e-Portal System तैयार किया गया है।

इस पोर्टल के तहत कृषि क्षेत्र में होने वाले विकास की प्रोग्रेस पर नजर रखी जाएगी।

किसानो के लिए बनाई गई योजनाए क्या सभी किसानो तक पहुँच रही है , इस पोर्टल से यह भी निगरानी राखी जायेगी।

ग्रामीण क्षेत्र के लिए बनाई गई योजनाए क्या हर व्यक्ति तक पहुँच रही है इसके आंकड़े तैयार किये जायेंगे।

और भी कई तरह की योजनाओ का किर्यान्व्यन सही तरिके से करने में यह सिस्टम मदद करेगा। 

Rural e Service पोर्टल के महत्वपूर्ण पॉइंट्स 

दोस्तों जैसे की हम ऊपर यह बता चुके हैं की e-Rural Services  पोर्टल सरकार द्वारा बनवाया गया है जिसके तहत ग्रामीण और कृषि क्षेत्र के आंकड़ों को प्रमाणिक तौर पर एकत्रित किया जायेगा।  यह सिस्टम आंकड़े इकठा करने के लिए और आंकड़ों के आधार पर रिपोर्ट तैयार करने के लिए डेवेलप किया गया है।  इसलिए इस पोर्टल पर आंकड़े फीड करने के लिए कुछ चुनिंदा लोगो को ही अधिकार होंगे।  कुछ पॉइंट्स निचे दिए गए हैं। 

यह पोर्टल लॉगिन आई डी से ही लॉगिन हो पायेगा

इस पोर्टल पर कुछ विशेष लोगो को ही डाटा अपलोड करने का अधिकार होगा।

इस पोर्टल पर डाटा तैयार किया जायेगा।

इस पोर्टल पर आंकड़ों के आधार पर डैशबोर्ड बनाया जायेगा और लिए गए निर्णयों की परफॉरमेंस रिपोर्ट तैयार की जाएगी।

कई तरह की रिपोर्ट इस पोर्टल  पर तैयार की जाएँगी।

पोर्टल से रिपोर्ट कई फॉर्मेट में जैसे की एक्सेल , ऍम एस वर्ड और पीडीऍफ़ में डाउनलोड किया जायेगा।

इस पोर्टल का e-Access पूरे संसार में होगा।

ये भी पढ़ें :

Leave a Comment